9/9/2019 10:50:39 PM

कश्मीर को लेकर तनाव के बीच भारत-पाकिस्तान मिलकर करेंगे सैन्य अभ्यास

एक ओर जब भारत और पाकिस्तान के बीच एलओसी और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारी तनाव बना हुआ है तो दूसरी ओर भारतीय सैन्य बल की एक टुकड़ी मल्टी नेशन मिलिट्री अभ्यास टिसेन्टर 2019 में हिस्सा लेने के लिए रूस पहुंच गयी है. खास बात ये है कि इस बहु राष्ट्रीय सैन्य अभ्यास में पाकिस्तान की सेना भी हिस्सा ले रही है. इस मल्टी नेशन मिलिट्री अभ्यास में मेजबान रुस के अलावा भारत, चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान और पाकिस्तान हिस्सा ले रहा है. इसका सैन्य अभ्यास का मकसद इन देशों की सेना को अंतराष्ट्रीय आतंकवाद के खिलाफ लड़ने के लिए अभ्यास करना है.

सबसे हैरानी की बात ये है कि इस अभ्यास में पाकिस्तान भी हिस्सा ले रहा है जो अपनी सरजमीं पर आतंकियों को ट्रेनिंग देने से लेकर उसे जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ करवा कर आतंक फैला रहा है. भारतीय सेना की एक टुकड़ी रूस के ओरेंबर्ग एयरबेस पर सोमवार को पहुंचीं. सेंट्रल मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के चीफ ऑफ स्टाफ मेजर जनरल आर एस मिननेकेव ने भारतीय सेना के इस टुकड़ी की आगवानी की. जवानों की आगवानी पर उनका स्वागत करने के लिए रूस की तरफ से परंपरागत 'ब्रेड एंड साल्ट' सेरेमनी का आयोजन किया गया. इसके बाद रूस के आर्म्ड फोर्सेज के बैंड ने मार्शल धुन बजाकर भारतीय जवानों का स्वागत किया.

भारतीय जवानों का ये बल सड़क के रास्ते से डोंगज रेंज के फील्ड कैम्प के लिए रवाना हो गया. जहां आज से मल्टी नेशन मिलिट्री अभ्यास शुरू होगी. इस मल्टी नेशन मिलिट्री अभ्यास में पाकिस्तान के अलावा चीन की पीपुल्स आर्मी भी हिस्सा ले रही है. 10 सितंबर से शुरू होने जा रहा ये मल्टी नेशन मिलिट्री अभ्यास 23 सितंबर तक चलेगा. रूस में होने जा रहा TSENTR 2019 हर साल होने वाले रूस के आर्मी की ट्रेनिंग का हिस्सा है.