12/24/2018 5:01:31 AM

पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ को भ्रष्टाचार के मामले में 7 साल का कारावास

इंटरनेशनल डेस्क। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके चाहने वालों को बड़ा झटका लगा हैं। दरअसल जवाबदेही अदालत (एकाउंटेबिलिटी कोर्ट) ने सोमवार को उन्हें अल-अजिजिया मिल केस में सात साल कैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही उन पर 2.5 मिलियन का जुर्माना भी लगाया गया है। हालांकि, नवाज शरीफ को एक अन्य केस फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट रेफरेंस में सबूतों के आभाव में बरी कर दिया गया है।

यह भी पढ़े: भारतीय सेना में शामिल होगा रूस का युद्धक हेलिकॉप्टर कामोव, इस नतीजे पर पहुंचा समझौता

इस्लामाबाद की जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश मोहम्मद अर्षद मलिक ने 68 वर्षीय शरीफ के खिलाफ फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट और अल अजीजिया मामलों में पिछले हफ्ते सुनवाई पूरी की थी और फैसला सुरक्षित रख लिया था। वही उच्चतम न्यायालय ने उनके खिलाफ चल रहे भ्रष्टाचार के दो अन्य मामलों को निपटाने के लिए सोमवार की अंतिम तारीख तय की थी। कोर्ट के फैसले से एक दिन पहले रविवार को शरीफ लाहौर से इस्लामाबाद आए थे। 

यह भी पढ़े: बीमार बच्चों के बीच सांता बनकर पहुंचे ओबामा, सामने आया वीडियो

बता दे गत वर्ष 28 जुलाई को पनामा पेपर्स केस में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बीते सितंबर महीने में शरीफ के खिलाफ तीन मुकदमे शुरू हुए थे। जुलाई, 28 को अपने आदेश के तहत एससी ने नवाज शरीफ को पीएम पद के अयोग्य करार दिया था। जानकारी के मुताबिक शरीफ परिवार के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले अल-अजीजिया स्टील मिल्स, फ्लैगशिप इन्वेस्टमेंट लिमिटेड और एवेनफील्ड प्रोपर्टीज से जुड़े हुए हैं।