1/10/2019 3:48:56 PM

सवर्णों को मिले आरक्षण का शुरू हुआ विरोध

नेशनल डेस्क। मोदी सरकार ने सामान्य वर्ग को साधने के लिए 10 फीसदी आरक्षण बिल को राज्यसभा और लोकसभा में पास करवा लिया है। लेकिन वही विपक्षी पार्टियां चाहते हुए भी इसका विरोध नही कर पाई। विपक्ष लोकसभा और राज्यसभा में सिर्फ एक ही सवाल पूछते रहे कि, इस बिल को लाने का यही समय क्यों चुना गया। क्या इसे मोदी सरकार अपने कार्यकाल के शुरूआती दिनों में नही ला सकती थी। 

सवर्ण आरक्षण बिल पास होने पर PM मोदी बोले- यह सामाजिक न्याय की जीत है

सवर्णो को आरक्षण मिलने के बाद अब दलित और ओबीसी समुदाय के लोग सड़क पर उतरने का मन बना रहे हैं।  इस विरोध की शुरुआत भी हो चुकी है।  आरक्षण विधेयक के खिलाफ बुधवार को लोगों ने सड़क पर उतरकर अपने गुस्से का इजहार किया। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अंबेडकर प्रतिमा के सामने सामाजिक-राजनीतिक संगठनों ने मिलकर सामान्य वर्ग को दिए जाने वाले आरक्षण के विरोध में प्रदर्शन किया। 

शिवसेना ने पूछा - आरक्षण तो दिया, नौकरियां कहां से लाओगे ?

विरोध को और तेज़ करने के लिए बुधवार को दिल्ली में दलित और ओबीसी संगठनों से जुड़े हुए लोगों ने बैठक कर रणनीति बनाई है। प्रदर्शनकारियों ने एक स्वर में कहा की ये सरकार एससी-ओबीसी आरक्षण को खत्म करना चाहती है और मनुवादी सोच को लागू करना चाहती है। अब देखना ये होगा की मोदी सरकार और बीजेपी के लिए ये बिल सवर्णों को खुश करेगा या सरकार के लिए सिरदर्द बनेगा। 

10 फीसदी आरक्षण का लाभ लेने के लिए सवर्णों को देने होंगे ये जरूरी कागजात