Wednesday : 24-10-18 04:07:18 AM
English Hindi

किसान क्रांंति यात्रा: अन्नदाता पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, सरकार से हुई बातचीत में नहीं बनी बात 

किसान क्रांंति यात्रा: अन्नदाता पर पुलिस ने किया लाठीचार्ज, सरकार से हुई बातचीत में नहीं बनी बात 
Sukhdev Choudhary
Tuesday, October 2, 2018 - 17:20
44

नई दिल्ली। अन्नदाता पर शक्ति प्रदर्शन करते हुए आंसू गैस दाग कर व टायर पंक्चर कर दिल्ली में एंट्री रोकी है। किसान क्रांंति यात्रा की दिल्ली बॉर्डर पर पुलिस और किसानों में झड़प हुई, आंसू गैस के गोले दागे गए व लाठीचार्ज भी किया। किसान क्रांति यात्रा की सरकार के साथ वार्ता में बात नहीं बानी, BKU ने संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया। दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर घमासान हुआ, पुलिस से भिड़े किसान, पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो किसानो ने पत्थरबाजी की। दिल्ली कूच को लेकर अड़े किसानों पर पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे व लाठीचार्ज भी किया। 

अपनी मांगों को पूरी करवाने के लिए हरिद्वार से चला हजारों किसानों का काफिला अब दिल्ली की सरहद तक पहुंच गया है। मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन की अगुवाई वाला मार्च गाजियाबाद पहुंचा और यहां पर पुलिस से झड़प हुई। यूपी-दिल्ली बॉर्डर पर पुलिस ने यहां पर बैरिकैडिंग कर दी थी, जहां किसान और पुलिस के बीच तीखी झड़प हो गई। इस दौरान पुलिस ने उन्हें रोकने के लिए पानी की बौछारें की और आंसू गैस के गोले छोड़े।

इससे पहले हजारों किसान दिल्ली बॉर्डर पहुंचे। किसानों को राजधानी में प्रवेश करने से रोकने के लिए दिल्ली पुलिस ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। इसके लिए पूरे यमुनापार में धारा-144 लगा दी गई है और यूपी से दिल्ली में प्रवेश करने के सभी रास्तों को बंद कर दिया गया है। गाजियाबाद बॉर्डर पर किसानों को रोक दिया गया है। दिल्ली में दाखिल होने वाले हर रास्ते को सील कर दिया गया है। दिल्ली से कौशांबी जाने वाले रूट में भी बदलाव किया गया है। 

पूर्ण ऋण माफी और विद्युत दरों में कमी सहित अन्य मांगों को लेकर ‘किसान क्रांति यात्रा’ के बैनर तले हरिद्वार से चलकर दिल्ली जा रहे किसानों को पुलिस ने गाजियाबाद सीमा पर रोक दिया। प्रदर्शनकारियों ने अपनी 10 दिवसीय यात्रा भारतीय किसान यूनियन की अगुआई में शुरू की थी। प्रदर्शनकारी मंगलवार को उत्तर प्रदेश – दिल्ली की सीमा पर पहुंच गए। प्रदर्शन को देखते हुए दोनों प्रदेशों की सीमा पर भारी सुरक्षा बल तैनात कर दिया गया और राष्ट्रीय राजधानी में कुछ इलाकों में धारा 144 भी लागू कर दी गई थी।

इन किसानों की योजना राजघाट से संसद तक मार्च करने की है। लेकिन दिल्ली पुलिस की तरफ से उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी गई है। साथ ही दिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर को सील कर दिया गया है। पुलिस ने बेरिगेटिंग कर दी है। यूपी पुलिस और दिल्ली पुलिस ने दिल्ली की तरफ जाने वाले सभी रास्तों को सील कर दिया गया है। गाजियाबाद से दिल्ली में दाखिल होने वाले रास्ते को भी डाइवर्ट किया गया है। साथ ही साथ दिल्ली से कौशाम्बी और वैशाली की तरफ जाने वाले रास्ते को भी डाइवर्ट किया गया। 

स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों को लागू किया जाए। आत्महत्या करने वाले किसानों के परिजनों का पुनर्वास। किसानों की कर्ज माफ़ी। किसानों को बिजली मुफ्त में दी जाए। किसानों की फसलों की सरकारी खरीद की गारंटी। फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य लागत से 50 प्रतिशत जोड़कर मिले। बकाया गन्ना भुगतान ब्याज सहित अविलंब कराया जाए। 10 साल पुराने डीजल वाहनों पर लगी रोक हटाई जाए। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ सीधे किसानों को दिया जाए। किसानों की न्यूनतम आमदनी सुनिश्चित हो। आवारा पशु व जंगली जानवरों से सुरक्षा मिले। 

और पढ़ें

Add new comment