Sunday : 21-10-18 12:59:32 AM
English Hindi

शादी करने पर समाज ने नहीं दी इजाज़त श्राद्ध की

शादी करने पर समाज ने नहीं दी इजाज़त श्राद्ध की
Friday, August 10, 2018 - 13:18
140

दिल्ली।राजधानी दिल्ली में हिन्दू धर्म से आने वाली महिला ने मुस्लिम व्यक्ति से शादी कर ली और महिला के मौत के बाद उसका पति उसका अंतिम संस्कार हिन्दू रीती रिवाजों के साथ करना चाहता था. लेकिन हिन्दू समाज के लोगो ने इसकी अनुमति ये कहते हुए नहीं दी की महिला हिन्दू नहीं है.क्यों की उसने मुस्लिम व्यक्ति से शादी कर ली. 

दरअसल इम्तियाज़ुर रहमान कोलकाता के रहने वाले है. और उनकी पत्नी का निधन पिछले हफ़्ते दिल्ली में हुआ था और उनकी पत्नी की आखरी इच्छा थी की उसका अंतिम संस्कार हिन्दू रीती रिवाज के साथ ही करवाया जाए। इसलिए इम्तियाज़ुर उनकी आखरी इच्छा का सम्मान करना चाहते थे. इसलिए वो अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार हिंदू रीती रिवाज के साथ करना चाहते थे। दोनों ने 20 साल पहले स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत शादी की थी. इस कानून के तहत अलग-अलग धर्मों से आने वाले लोग आपस में शादी कर सकते हैं.

चितरंजन पार्क मंदिर समाज ने कैंसिल की श्राद्ध की बुकिंग

वैसे तो निवेदिता का अंतिम संस्कार हिंदू रिवाज के अनुसार दिल्ली के निगम बोध घाट पर हुआ लेकिन परिवार वाले उनका श्राद्ध नहीं करा पाए. श्राद्ध में अंतिम संस्कार से जुड़ी कई चीज़ें की जाती हैं. रहमान पश्चिम बंगाल के कर्मशियल टैक्स डिपार्टमेंट में अस्सिटेंट कमिश्नर हैं. उन्होंने बताया कि 12 अगस्त को बंगाली बहुल दिल्ली के चितरंजन पार्क इलाके के काली मंदिर में 1300 रुपये देकर उन्होंने श्राद्ध के लिए समय लिया था. बाद में उन्हें बताया गया कि 'तय कारणों' की वजह से उनकी बुकिंग कैंसिल कर दी गई है.टेंपल सोसाइटी के अस्तित्व भौमिक ने बताया कि ऐसा कई काराणों की वजह से करना पड़ा. उन्होंने आरोप लगाया कि रहमान ने अपनी पहचान छुपाई और अपनी बेटी इहिनी अंब्रीन के नाम से बुकिंग करवाई. इनके मुताबिक ये नाम अरबी मुस्लिम नाम के जैसा नहीं लगता है. उन्होंने आगे कहा कि उन्हें धर्म के बारे में तब पता चला जब पंडित को शक हुआ और उसने रहमान का गोत्र पूछ दिया. गोत्र हिंदू धर्म की पहचान का एक अभिन्न अंग है.

उन्होंने आगे कहा कि इस बार वो अपनी पत्नी की इच्छा का सम्मान करना चाहते थे, क्योंकि ये निवेदिता की आखिरी ख्वाहिश थी कि उनका श्राद्ध हिंदू धर्म के अनुसार हो.

और पढ़ें

There is 1 Comment

Add new comment