Wednesday : 24-10-18 03:47:29 AM
English Hindi

सरकार ने कर्मचारियों को " जोर का झटका धीरे से " दिया

सरकार ने कर्मचारियों को " जोर का झटका धीरे से " दिया
अभिषेक शर्मा
Friday, October 5, 2018 - 21:21
103

जयपुर : आपने कहावत तो सुनी होगी विनाश काले विपरीत बुद्धि आज यही कहावत चरितार्थ की राजस्थान सरकार जहां पिछले कई महीनों से सरकार बिना कर्मचारियों की चल रही है और अपनी मांगों को लेकर जिस प्रकार से लगभग सभी विभागों के कर्मचारी आंदोलन हड़ताल कर रहे हैं उसको सरकार ने आज काम नहीं तो दाम नहीं का आदेश देकर आग में घी का काम किया।

वह भी जब  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अजमेर दौरे पर आ रहे हैं और उनके आने के बाद कभी भी आचार संहिता लग सकती है हर लगभग  डेढ़ माह बाद विधानसभा चुनाव  और उसके बाद लोकसभा चुनाव भी होने  हैं ।

राजस्थान रोडवेज के लगभग 52 डिपो के कर्मचारियों योजनाबद्ध तरीके से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को काले झंडे दिखाने की रणनीति बनाई है

क्योंकि अब कर्मचारी भी आर पार की लड़ाई के मूड में आ चुके हैं और सरकार बनने के बल पर दबाव पर कर्मचारियों की मांगों को नहीं मान रही है हो सकता है कि कुछ मांगे गैर वाजिब हो ।

लेकिन सरकार को आम लोगों का ध्यान भी रखना होगा कि आम जनता किस प्रकार परेशान हो रही है

आपको याद होगा कि पूर्व में सन 2002-2003 में  अशोक गहलोत भी इसी प्रकार की गलती करके और फैसले लेकर बुरी तरीके से सत्ता गंवा चुके अब ऐसे में सवाल उठता है कि जहां मुख्यमंत्री गौरव यात्रा निकालकर सुशासन और स्वराज का दावा कर रही है

वहीं दूसरी तरफ सरकारी कर्मचारियों की हड़ताल से और रोडवेज के चक्के जाम से एक आम आदमी से लेकर खास आदमी तक परेशान हो रहा है

और पढ़ें

Add new comment