हरियाणा कर्मचारी महासंघ ने प्रदर्शन किया गया।

हरियाणा कर्मचारी महासंघ ने प्रदर्शन किया गया।
Published Date:
Tuesday, May 29, 2018 - 15:36

फरीदाबाद

प्रदेश स्तरीय निर्धारित कार्यक्रमानुसार हरियाणा कर्मचारी महासंघ के बैनर तले आज जिला उपायुक्त फरीदाबाद कार्यालय सेक्टर-12 पर हरियाणा कर्मचारी महासंघ के जिला प्रधान महेन्दर सिंह की अध्यक्षता में प्रदर्शन किया गया।
मंच का संचालन वरिष्ठ उपप्रधान श्री सन्तराम लाम्बा ने किया, यह प्रदर्शन हरियाणा कर्मचारी महासंघ की रोहतक में 27 मई 2018 को हुई राज्यस्तरीय मीटिंग के पूर्व नियोजित घोषित कार्यक्रमानुसार किया गया व इस प्रदर्शन में विशेष विशेष तौर पर उपस्थित हरियाणा कर्मचारी महासंघ के जिला प्रधान महेन्दर सिंह, सचिव जयसिंह गिल व जिला चेयरमैन सुनील खटाना ने अपने संयुक्त सम्बोधन में सरकार को ललकारते हुए कहा कि हरियाणा कर्मचारी महासंघ आज प्रदेश में मेहनतकश कर्मचारियों का सबसे बड़ा व मजबूत संगठन है यह एक बार फिर अपनी बुलन्द आवाज में प्रदेश के कमेरे वर्ग की लाम्बित पड़ी माँगों को लेकर सरकार के खिलाफ आन्दोलनरत हुआ है क्योंकि हरियाणा सरकार ने गत दो दिवसीय वार्ता 20 व 21 फरवरी 2018 को हरियाणा कर्मचारी महासंघ अपने कर्मचारियों की माँगों ना माने जाने से खफा होकर हड़ताल करने जा रहा था

लेकिन हड़ताल ना हो इसके लिये हरियाणा सरकार ने प्रदेश के शीर्ष नेताओं के प्रतिनिधिमंडल को बातचीत का न्यौता देकर महासंघ नेताओं संग उच्चस्तरीय अधिकारियों सहित मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर साथ हुई बातचीत करके कुछ माँगों पर सहमति जताते हुए उक्त माँगों को अति शीघ्रता से लागू करने का वादा कर आश्वस्त किया था जिसके फलस्वरूप माँगें लागू किये जाने के आश्वासन के बाद हरियाणा कर्मचारी महासंघ ने अपनी 20 फरवरी 2018 की राज्यव्यापी हड़ताल को स्थगित कर दिया था परन्तु यह सरकार इस बाबत भी वायदाखिलाफी कर कर्मचारियों के समक्ष झूठी साबित हुई और मानी गई माँगों को तीन माह बीत जाने के बाद अभी तक भी लागू नहीं किया गया इसके विपरीत सरकार ने अपने आईएएस अधिकारियों के भत्तों को बढ़ाकर उन्हें खुश करने का और निचले स्तर के कर्मचारियों के भत्तों को नजरअन्दाज करके प्रदेश की सरकार ने कर्मचारियों के साथ कुठाराघात करने का काम किया है जिसे बर्दाश्त नही किया जा सकता जिसका कर्मचारी वर्ग का हितैषी संगठन हरियाणा कर्मचारी महासंघ पुरजोर विरोध करता है तथा बढाए गए इन भत्तों की प्रतियाँ जलाकर प्रदर्शन करने को मजबूर हुआ है। जबकि सरकार को सबसे पहले अपने ही मेहनतकस कर्मचारियों सुध लेकर इनकी माँगों को त्वरित लागू करना चाहिए ।

यदि अब भी समय रहते प्रदेश की सूबे की सरकार ने अपनी सहमति जताई मानी गई माँगों को जैसे कि समान काम समान दाम वेतनमान, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करना, रिस्क अलाउन्स देना, सातवें वेतन आयोग के भत्ते बढाना, कैशलेस मेडिकल, कर्मचारियों के वेतन प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह में ना देने पर डीडीओ के खिलाफ कार्यवाही करने, पुरानी पेन्शन स्कीम को पुनः बहाली करना, विभागों में जोखिमों पर कार्य करने वाले कर्मियों को सरकारी खर्च पर बीमा कराने पर सहमति इत्यादि अनेकों सहमत बनी मुख्य माँगों को जल्द से जल्द लागू नहीं करती है तो आगामी समय मे हरियाणा कर्मचारी महासंघ प्रदेश की सरकार से सीधे टकराने को तैयार है और आने वाली 21 अगस्त 2018 की हड़ताल के माध्यम से सभी विभागों के कामकाज को ठप्प करके प्रदेश को जाम करने का काम करेगा

इस प्रदर्शन में हरियाणा कर्मचारी महासंघ के जिला प्रेस प्रवक्ता लेखराज चौधरी सहित हरियाणा रोडवेज यूनियन से जयसिंह गिल, राजबीर सौरौत, बिजली बोर्ड यूनियन से जयभगवान आंतिल, रामनिवास, कर्मवीर यादव, बृजपाल, शेरसिंह, आजाद, जगदीश मेहता, आबकारी कराधान विभाग से प्रधान दयानन्द पांचाल, बजरंगलाल जांगड़ा, मैडम मूर्ति कटारिया, भरतसिंह नेगी, जनस्वास्थ्य विभाग से प्रधान योगेश शर्मा, रामसरन, चरणसिंह, सिटी सब डिवीजन से ठाकुर राजाराम, मदन गोपाल शर्मा, सुधीर, राजबीर, सत्यप्रकाश चौहान, मुकेश शर्मा, जगदीश पेरवाल, सुनील, वीरसिंह, लक्ष्मण शर्मा, हनीफ खान, जसपाल इत्यादि सैंकड़ों कर्मियों सहित नेताओं समेत सभी में शिक्षा विभाग, नगर निगम, पब्लिक हेल्थ, एमआईटीसी, तहसील आदि अनेकों विभागों के सैकड़ों कर्मचारियों ने बढ़चढ़ कर भाग लेते हुए हड़ताल को सफल बनाने में संकल्पकृत हुए ।