Wednesday : 24-10-18 04:14:54 AM
English Hindi

गुजरात में नोन गुजराती पर हमले के‌ पीछे कोंग्रेस के तीन उद्देश्य समझिए

गुजरात में नोन गुजराती पर हमले के‌ पीछे कोंग्रेस के तीन उद्देश्य समझिए
Sukhdev Choudhary
Wednesday, October 10, 2018 - 13:34
26

अहमदाबाद: तो कांग्रेस गुजरात में और पूरे देश में फिर से वर्ग संघर्ष की साम्यवादी नीति को लागू कर रही है और इसमें कोई संदेह नहीं है कि राहुल गांधी के निकट के वामपंथी ही ऐसे वर्ग संघर्ष के पीछे है। 2015 में पाटीदार आंदोलन, फिर दलित आंदोलन और फिर ओबीसी आंदोलन जन्मा। इस तीनों आंदोलन का उद्देश्य एक ही था बीजेपी को पाटीदार दलित और ओबीसी के मतों से वंचित करना और पूरे भारत में ऐसा स्थापित करना कि गुजरात का विकास का मॉडल जिसके दम पर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री चुन के आए और बहुमत से सरकार बनाई वह मॉडल पूरी तरह से फेल हो।

लेकिन यह तीनों आंदोलन के पीछे कांग्रेस का हाथ एक्सपोज हो गया तो कांग्रेस ने एक नई रणनीति आजमाई। कांग्रेस के विधायक अल्पेश ठाकोर को बिहार कांग्रेस का सह प्रभारी बनाया गया और बीजेपी को 2014 में उत्तर प्रदेश और बिहार में से काफी सीटें मिली थी तो उसको तोड़ने के लिए और गुजरात को गुजरात में से उद्योग निकल जाए इसलिए गुजरात में एक बच्ची पर बलात्कार की जघन्य घटना को आधार बनाकर गुजरात में रह रहे नॉन गुजराती पर हमले अल्पेश ठाकोर ने शुरू करवाये। 29 सितंबर को फेसबुक लाइव करके अल्पेश ठाकुर ने साफ चेतावनी दी कि बलात्कारी को अगर ठाकुर सेना के हाथ में सौंप दिया होता तो उसका हिसाब हम कर देते इसका मतलब साफ है कि जो हमले ठाकुर सेना के लोग कर रहे इसके पीछे अल्पेश ठाकुर और कांग्रेस ही है।

इसके मायने आप समझिए। गुजरात में बीजेपी को मत देने वाले उत्तर प्रदेश और बिहार से आए हुए मजदूर लोग हैं जो यहां पर आकर धंधा रोजगारी कमाते हैं और पिछले लोकसभा चुनाव में उन्होंने अपने अपने गांव जाकर नरेंद्र मोदी के समर्थन में प्रचार भी किया था तो गुजरात में बीजेपी को नॉन गुजराती के मत ना मिले तथा उत्तर प्रदेश और बिहार जो कि लोकसभा की दृष्टि से सबसे बड़े राज्य है उसमें भी बीजेपी को मत ना मिले यह चाल कांग्रेस द्वारा अल्पेश ठाकोर के कंधे पर बंदूक रखकर चली जा रही है इसका तीसरा मकसद यह भी है कि अगर गुजरात में से उत्तर प्रदेश और बिहार के मज़दूर चले जाएंगे तो गुजरात के उद्योग ही ठप हो जाएंगे।

और पढ़ें

Add new comment