Wednesday : 24-10-18 03:58:09 AM
English Hindi

विवेक हत्याकांड: PM की रिपोर्ट में हुआ खुलासा, तिवारी को करीब से मारी गई गोली  

विवेक हत्याकांड: PM की रिपोर्ट में हुआ खुलासा, तिवारी को करीब से मारी गई गोली  
Monday, October 1, 2018 - 18:21
43

लखनऊ: विवेक तिवारी हत्याकांड की घटना से चंद मिनट पहले का CCTV फुटेज सामने आया है। सीएम योगी से मुलाकात के बाद विवेक तिवारी की पत्नी को चार आश्वासन मिले है। विवेक हत्याकांड में आज विवेक की पत्नी और बच्चों से सीएम योगी मिले , और उनकी सारी मांगें मान ली है। विवेक मर्डर केस में PM रिपोर्ट से खुलासा हुआ है की गोली नजदीक से मारी गई है, कानून मंत्री ने पुलिस पर सवाल उठाए है। विवेक तिवारी मर्डर के दोनों आरोपी पुलिसकर्मी को बर्खास्त कर दिया गया, नई FIR में भी नाम है। 

लखनऊ में आधी रात को गाड़ी नहीं रोकने पर पुलिस के हाथों मारे गए एपल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस बीच सबूत जुटाने के लिए SIT की टीम कल घटनास्थल पहुंची। अब विवेक की मौत से चंद मिनट पहले का एक सीसीटीवी वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में मृतक विवेक तिवारी की कार और पुलिस की मोटरसाइकिल दिख रही है। दोनों गाड़ियां गोमतीनगर विस्तार के रास्ते पर आगे बढ़ रही हैं। हालांकि इसके बाद आगे क्या होता है, यह साफ-साफ पता नहीं चल पा रहा है।

कल्पना ने सीएम योगी से मुलाकात के बाद कहा कि राज्य सरकार पर उनका भरोसा बढ़ा है। उन्होंने कहा कि नौकरी से लेकर निष्पक्ष जांच की उनकी मांग को सीएम योगी ने स्वीकार किया है और हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया है। वहीं, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि जो भी तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए, सरकार ने की है। आगे भी जो कार्रवाई करनी है, वो निष्पक्ष तरीके से आगे बढ़ेगी। विवेक तिवारी के परिवार के प्रति, उनके बच्चों के भविष्य के प्रति सरकार गंभीर है। विवेक तिवारी के बच्चों के नाम 5-5 लाख की एफडी कराई जाएगी।

कल्पना ने कहा कि मैंने पहले यह भी कहा था कि मुझे प्रदेश सरकार पर पूरा विश्वास है और आज मुख्यमंत्री से मिलने के बाद ये विश्वास और दृढ़ हो गया है। उनसे मिलने के बाद हिम्मत बंधी है कि सदमे से उबर कर मैं जिंदगी जी पाऊंगी। वहीं, कल्पना तिवारी से मुलाकात के बाद सीएम योगी ने प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी ओपी सिंह से विवेक हत्याकांड में अब तक हुई जांच की प्रगति रिपोर्ट तलब की है।

विवेक तिवारी हत्याकांड में योगी सरकार अपने ही घर में घिरती नजर आ रही है। यूपी के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक और हरदोई के विधायक रजनी तिवारी ने सूबे की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े किए है। ब्रजेश पाठक ने बड़े अधिकारियों पर तथ्यों को छिपाने का आरोप लगाया है और मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट को सौंपने की अपील की। वहीं विधायक रजनी तिवारी ने सीएम योगी आदित्यानाथ को चिट्ठी लिखकर स्थानीय प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

विवेक की पत्नी ने सना के बयान के आधार पर अपनी एफआईआर में आगे लिखवाया है, 'ठुड्डी में गोली लगी और आधा किलोमीटर बाद गाड़ी खंभे से जाकर टकरा गई। इस बीच वहां जो पुलिसवाले आए, उन्होंने न मुझे किसी को फोन करने दिया और न ही किसी का फोन उठाने दिया और जबरदस्ती सादे कागज पर मुझसे दस्तखत करवा लिए और बाद में मीडिया तथा पुलिस के उच्चाधिकारियों के दबाव में मुझसे जबरदस्ती बोल-बोलकर उसी पन्ने पर लिखवाया भी गया। चूंकि मैं उस वक्त डरी हुई थी, इसलिए लिखती गई।'

और पढ़ें

Add new comment