बुध का वृषभ में गोचर- 27 मई 2018

बुध का वृषभ में गोचर- 27 मई 2018
Published Date:
Sunday, May 27, 2018 - 23:10

वैदिक ज्योतिष के अनुसार नवग्रहों में बुध को युवराज ग्रह कहा गया है। बुध एक शुभ ग्रह है लेकिन कुछ परिस्थितियों में अशुभ ग्रहों के संपर्क में आने पर यह बुरे परिणाम देता है। बुध मिथुन एवं कन्या राशि का स्वामी होता है। कन्या राशि में यह उच्च भाव में रहता है। वहीं मीन राशि में नीच भाव में स्थित होता है। बुध ग्रह प्रमुख रूप से बुद्धि, तर्क शक्ति, गणित, व्यापार और चेतना आदि का कारक कहा जाता है।

बुध ग्रह 27 मई 2018, रविवार को 8:31 बजे वृषभ राशि में गोचर करेगा और 10 जून 2018 तक इसी राशि में स्थित रहेगा। आईये जानते हैं बुध के वृषभ राशि में होने वाले गोचर का सभी राशियों पर क्या प्रभाव होगा? यह राशिफल आपकी चंद्र राशि पर आधारित है। अपनी चंद्र राशि जानने के लिए

मेष

इस गोचर के फलस्वरूप बुध ग्रह आपकी राशि से दूसरे भाव में प्रवेश करेगा। बुध के प्रभाव से आपकी संवाद शैली में अच्छा बदलाव देखने को मिलेगा। हालाँकि वाणी में कड़वापन आने से आपकी छवि को नुकसान पहुंच सकता है। इस दौरान भाई-बहन से आर्थिक सहयोग प्राप्त होने की संभावना है। निजी कारणों के चलते किसी से वाद-विवाद की संभावना है परंतु अंत में परिणाम आपके ही पक्ष में आएंगे।

उपायः किसी ब्राह्मण को शुद्ध घी का दान करें।

वृषभ

बुध ग्रह आपकी राशि में ही गोचर करेगा और प्रथम भाव में स्थित रहेगा। इस गोचर के फलस्वरूप आपके व्यक्तित्व में एक आकर्षण पैदा होगा। आप अपनी कुशल संवाद शैली की मदद से दूसरों पर अमिट छाप छोड़ेंगे। आपके व्यवहार में उदारता, कोमलता एवं सौम्यता दिखाई देगी। वैवाहिक जीवन और भी सुखदमय होगा। वैचारिक रूप से गोचर आपके लिए अनुकूल होने के संकेत दे रहा है। प्रेम जीवन में मधुरता बनी रहेगी।

उपायः अपनी कनिष्ठ उंगली में पन्ना धारण करें।

मिथुन

बुध आपकी राशि से बारहवे भाव में गोचर करेगा। इसके परिणाम स्वरूप आपको स्वास्थ्य संबंधी समस्याएँ हो सकती हैं। गोचर के दौरान आप विदेश यात्रा भी कर सकते हैं। निजी समस्या के कारण आपको मानसिक तनाव रह सकता है। इस दौरान स्वयं पर मानसिक तनाव को हावी नहीं होने दें। आपके ख़र्चों में वृद्धि की संभावना दिखाई दे रही है। गोचर के दौरान आप अपना निवास परिवर्तित कर सकते हैं।

उपायः बुध यंत्र को स्थापित करें और इसकी पूजा करें।

कर्क

आपकी राशि से ग्यारहवे भाव में संचरण करेगा। इस दौरान विदेश संबंध से आपको किसी प्रकार का लाभ मिल सकता है। मुनाफ़े में बढ़ोतरी की संभावना है। बेहतर प्रयासों की बदौलत आपको अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे। इस दौरान भाई-बहन का सहयोग भी प्राप्त होगा। वहीं प्रेम जीवन में आपको मिश्रित परिणाम देखने को मिल सकते हैं। इस रिश्ते में संवाद की कमी न आए, इसका अवश्य ध्यान रखिएगा। दोस्त एवं प्रियतम के साथ आपका समय अच्छा गुजरेगा।

उपायः गाय की सेवा करें और उन्हें हरी सब्जियाँ खिलाएँ।

सिंह

बध आपकी राशि से दसवे भाव में गोचर करेगा। इसके परिणाम स्वरूप आपको बौद्धिक रूप से इसका लाभ प्राप्त होगा। अपने प्रशंसनीय कार्य की वजह से आप चर्चा में आ सकते हैं। ऑफ़िस में सीनियर्स आपके सहयोग के लिए आगे आएंगे। वहीं घर का वातावरण भी शांतिपूर्ण होने का संकेत दे रहा है। बड़े भाई-बहन से करियर में मदद मिलने की संभावना है। अपनी आकांक्षाओं को पूर्ण करना ही आपकी प्राथमिकता होगी।

उपायः बुध ग्रह के बीज मंत्र का जाप करें।

कन्या

बुध आपकी राशि से नौवें भाव में गोचर करेगा। इस स्थिति में आपकी किस्मत चमक सकती है। समाज में आपका मान-सम्मान बढ़ेगा और आपकी पहचान एक प्रभावी व्यक्ति के तौर पर होगी। इस गोचर के दौरान आपको आर्थिक लाभ होने के शुभ संकेत मिल रहे हैं। कार्य क्षेत्र में अच्छा अवसर प्राप्त होने पर आप अपनी मौजूदा जॉब में परिवर्तन कर सकते हैं। धार्मिक क्रियाओं में आपकी रुचि बढ़ेगी। वहीं लंबी यात्रा आपके योग में है। गोचर की अवधि आपके लिए सकारात्मक साबित हो सकती है।

उपायः बुधवार के दिन अपनी कनिष्ठ उंगली में पन्ना धारण करें।

तुला

बुध आपकी राशि से आठवे भाव में संचरण करेगा। इस दौरान आपको सावधानी से काम करने की आवश्यकता होगी। क्योंकि अचानक धन हानि होने के संकेत मिल रहे हैं। किसी बात या रहस्य को जानने के लिए आप उत्सुक रह सकते हैं। वहीं इच्छा के विरुद्ध यात्रा पर जाना पड़ सकता है। संघर्ष के बाद आपको अच्छे परिणामों की प्राप्ति होगी और आप अपने कार्य में सफल होंगे। जीवन साथी धन का संचय कर सकता है। किसी तरह के विवाद अथवा क़ानूनी केस का फ़ैसला आपके हक़ में आ सकता है।

उपायः विष्णु सहस्त्रनम स्त्रोत का जाप करें।

वृश्चिक

बुध आपकी राशि से सातवे भाव में गोचर करेगा। इस दौरान नकारात्मक भाषा शैली के कारण आपका किसी से विवाद संभव है। ग़लतफ़हमी के कारण जीवन साथी से आपके संबंध कटु हो सकते हैं। किसी व्यक्ति के साथ आप प्रेम संबंध बना सकते हैं। यदि आप साझेदारी में व्यवसाय कर रहे हैं तो लाभ मिलने की प्रबल संभावना है। ध्यान रखें धैर्य और सकारात्मक दृष्टि ही आपकी वास्तविक ताक़त है। अपनी सेहत पर खास ध्यान दें।

उपायः बुधवार के दिन हरे कपड़े एवं हरी सब्जियाँ दान में दें।

धनु

बुध ग्रह आपकी राशि से छठे भाव में संचरण करेगा। इसके प्रभाव के कारण आपके जीवन साथी की सेहत में गिरावट आने की संभावना है। इसके अलावा दोनों के बीच किसी तरह का विवाद भी संभव है। ख़र्च में बढ़ोतरी होगी। हालाँकि कार्य क्षेत्र में आपका प्रदर्शन अच्छा रहने वाला है और परिणाम स्वरूप आपका प्रमोशन भी हो सकता है। अपनी सेहत का ख़्याल रखें।

उपायः किन्नरों का आशीर्वाद लें। तीव्र स्मरण और तार्किक शक्ति के लिए स्थापित करें: बुध ग्रह यंत्र

मकर

बुध आपकी राशि से पाँचवे भाव में गोचर करेगा। इस गोचर के फलस्वरूप आपके ज्ञान में वृद्धि होगी। उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए आप एक स्थान से दूसरे स्थान पर जा सकते हैं। बच्चे भी गोचर के दौरान स्वस्थ्य रहेंगे। वहीं प्रेम जीवन में भी सुधार देखने को मिल सकता है। प्रेम संबंध में संवाद आपके इस रिश्ते को और भी मजबूत बनाएंगे।

उपायः विष्णु सहस्त्रनम स्त्रोत का जाप करें।

कुम्भ

बुध ग्रह आपकी राशि से चौथे भाव में जाएगा। जिसके कारण आपको अचानक धन लाभ हो सकता है। संघर्ष करने पर ही आपको सफलता प्राप्त होगी इसलिए आपको कठिन परिश्रम करने की आवश्यकता है। गोचर के दौरान वाहन चलाते वक़्त सावधानी बरतें। माता जी के स्वास्थ्य में गिरावट देखने को मिल सकती है। उधर बच्चों की सेहत खराब रह सकती है। छात्रों को पढ़ाई-लिखाई में समस्या का सामना करना पड़ सकता है। प्रियतम के साथ रिश्ते मधुर बने रहेंगे।

उपायः मामी अथवा अपनी बहन को तोहफ़ा भेंट करें।

मीन

बुध ग्रह आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेगा। इसके प्रभाव से आप अपने लक्ष्य के प्रति संकल्पबद्ध होंगे। आपकी संवाद शैली में प्रखरता देखने को मिलेगी जिसके कारण आप दूसरों को अपने विचारों से प्रभावित करेंगे। आर्थिक दृष्टि से गोचर का प्रभाव अनुकूल है। कड़ी मेहनत के बल पर आप अपनी आमदनी में इज़ाफ़ा करेंगे। यदि आप शादीशुदा हैं तो जीवन साथी को इस गोचर का बड़ा लाभ मिल सकता है। समाज में उनकी प्रसिद्धि बढ़ने संभावना है। गोचर के दौरान आप किसी यात्रा पर भी जा सकते हैं। भाई-बहन का सहयोग आपको प्राप्त होगा। स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही बिल्कुल नहीं बरतें।

उपायः गाय को गुड़ एवं गेहूँ खिलाएँ।