Wednesday : 14-11-18 05:32:55 PM
English Hindi

गंभीर ने ओढ़ा दुपट्टा, लगाई बिंदी- असलियत जानकर दंग रह जाएंगे आप

गंभीर ने ओढ़ा दुपट्टा, लगाई बिंदी- असलियत जानकर दंग रह जाएंगे आप
Friday, September 14, 2018 - 12:37
93

क्रिकेटर गौतम गंभीर सोशल मीडिया के जरिये अपनी राय रखने में कभी पीछे नहीं रहते. बिना किसी लाग-लपेट के अपनी बात रखना उनकी बड़ी खासियत है. समसामयिक मुद्दों पर उनके विचार सोशल मीडिया पर लगातार वायरल रहे हैं.

इन दिनों गंभीर की ताजा तस्वीरें सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बनी हुई हैं. मजे की बात है कि इन तस्वीरों में वह अपने माथे पर बिंदी लगाए व दुपट्टा ओढ़े हुए नजर आ रहे हैं.

पहले तो गंभीर का यह रूप देखकर लोग दंग रह गए, लेकिन जब सच्चाई का पता चला तो उन्हें लगातार तारीफ मिल रही है. दरअसल, गौतम किन्‍नर समाज के प्रति अपना समर्थन जता रहे हैं. इसी के मद्देनजर वह पिछले दिनों एक कार्यक्रम- हिजड़ा हब्‍बा के उद्घाटन समारोह में पहुंचे थे.

Alliance India@AllianceinIndia

The CE of Alliance India with @GautamGambhir at #HijraHabba 2018. #BornThisWay

6:38 PM - Sep 11, 2018

गंभीर जब इस कार्यक्रम में पहुंचे, तो किन्नरों ने उन्हें अपनी वेशभूषा में तैयार करने में उनकी मदद की. और इसी के उनकी तस्वीरें चर्चा का विषय बन गईं. गंभीर मानना है कि किन्नर सम्मान के हकदार हैं.

गंभीर ने रक्षाबंधन पर भी कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट की थीं, जिसमें वो ट्रांसजेंडर से राखी बंधवाते नजर आए थे. इस ट्वीट में गंभीर ने लिखा था कि, 'ये मर्द या औरत होने की बात नहीं है. ये इंसान होने की बात है...'

Gautam Gambhir✔@GautamGambhir

“It’s not about being a man or a woman. It’s about being a HUMAN.” With proud transgenders Abhina Aher and Simran Shaikh and their Rakhi love on my hand. I’ve accepted them as they are. Will you? #respecttransgenders

9:04 PM - Aug 25, 201

36 साल के गंभीर भारतीय टीम से बाहर चल रहे हैं. उन्होंने आईपीएल 2018 में कोलकाता नाइट राइडर्स फ्रेंचाइजी से भी खुद को अलग कर लिया. इसके बाद आईपीएल-11 में खराब प्रदर्शन के बाद अनुभवी गंभीर ने तत्काल प्रभाव से दिल्ली डेयरडेविल्स की कप्तानी छोड़ दी थी.

उल्लेखनीय है कि  गंभीर अपने फाउंडेशन के जरिए सामाजिक कार्यों में काफी आगे रहे हैं. उन्होंने छत्तीसगढ़ में पिछले साल अप्रैल में हुए नक्सली हमले में शहीद हुए 25 जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च वहन करने की घोषणा की थी. सितंबर 2017 में जम्‍मू-कश्‍मीर के शहीद पुलिस ऑफिसर अब्‍दुल राशिद की बेटी को पूरी जिंदगी शिक्षा मुहैया कराने में मदद करने की भी वह घोषणा कर चुके हैं.

और पढ़ें

Add new comment