PNB के बाद अब ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से लोन फ्रॉड, दिल्ली के हीरा कारोबारी के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस

PNB के बाद अब ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से लोन फ्रॉड, दिल्ली के हीरा कारोबारी के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस
Published Date:

इस तरह पकड़ में आया पीएनबी घोटाला
पीएनबी के अधिकारियों ने सबसे पहले नीरव मोदी को 800 करोड़ की रकम का एलओयू जारी किया। जब मोदी उसको नहीं चुका पाया तो बैंक ने पैसा वसूलने के बजाय नीरव मोदी को और एलओयू जारी कर दिए। इन एलओयू को आधार बनाकर नीरव मोदी ने नया लोन ले लिया। ये फर्जीवाड़ा जनवरी तक चलता रहा। जनवरी में जब इन एलओयू की मैच्युरिटी पूरी हो गई तो दूसरे बैंकों ने पीएनबी से लोन के रिपेमेंट की मांग की।
PNB घोटाले का आरोपी नीरव मोदी आखिर कौन है?
यहां तक कि रिपोर्ट के मुताबिक 16 जनवरी 2018 को भी इस तरह एलओयू मोदी की कंपनी के नाम पर जारी हुआ। जब बैंक के कर्मचारी ने नीरव मोदी की कंपनी से एलओयू के लिए 100 फीसदी कैश मार्जिन जमा करने के लिए कहा तो कंपनी ने कहा कि उसने पहले भी इस तरह से लोन लिया है। इसके बाद जब बैंक ने अंदरुनी जांच की तो पता चला कि नीरव मोदी की कंपनी को फर्जी एलओयू जारी किए गए थे। इसके बाद पीएनबी ने जनवरी के आखिरी सप्ताह में सीबीआई में इसकी शिकायत दर्ज करवाई।