चींटी के काटने से भारतीय महिला की मौत

चींटी के काटने से भारतीय महिला की मौत
Published Date:

रियाद। सऊदी अरब की राजधानी रियाद में रहने वाली केरल की एक भारतीय महिला को जहरीली चींटी ने काट लिया, जिसकी वजह से महिला की मौत हो गई। 36 साल की सुजी जेफी, को 19 मार्च को एक चींटी ने काटा था जिसके बाद उन्हें रियाद के ओबैद अस्पताल के आईसीयू में भर्ती कराया गया था। बाद में, उनकी एनाफिलेटिक शॉक के कारण मौत हो गई।

खलीज टाइम्‍स की खबर के मुताबिक, जेफी रियाद स्थित अपने घर में कुछ रिश्‍तेदारों के साथ बैठी हुई थी, तभी उन्‍हें एक चींटी ने काट लिया था। परिवार के निकटवर्ती सूत्रों का कहना है कि सुजी उस समय अपने घर में थी जब उसने शिकायत की थी कि किसी ने उन्हें जोरदार तरीके से काटा है। जब उनके पति जेफी मैथ्यू ने गौर किया तो उन्होंने एक चींटी को देखा जिसे उन्होंने पकड़कर बाहर फेंक दिया।

लेकिन इस घटना के बाद सूजी के शरीर में सूजन आने लगी और इसके बाद उसे सांस लेने में भी परेशानी होने लगी और वे सांस लेने में भी हांफने लगीं। अस्पताल के अधिकारियों का कहना है कि जब सूजी को यहां लाया गया था तब वे एनालिफलिटिक शॉक से पीडि़त थीं। उल्लेखनीय है कि एनाफिलिटिक शॉक एक ऐसी उग्र और प्राणघातक प्रतिक्रिया होती है जिसके चलते किसी जहर के चलते बीमार का शरीर अत्यधिक संवेदनशील हो जाता है।

अस्पताल के सूत्रों का कहना है कि इस तरह की प्रतिक्रिया कुछेक मिनटों या सेकंडों में हो जाती है। विशेष रूप से तब जब आप किसी चीज को लेकर एलर्जिंक हों, यह मूंगफली का मक्‍खन हो सकता है या मधुमक्खी का काटना। बहुत अधिक अलर्जिक प्रतिक्रिया के चलते आपका रक्त चाप बहुत तेजी से घट या बढ़ जाता है और इसके चलते सांस लेना तक मुश्किल हो जाता है। अगर इसका इलाज नहीं किया जाता है तो इससे बीमार की जान भी जा सकती है।