जीवन ज्योति अस्पताल में छापेमारी, भ्रूण लिंग परीक्षण की मिली थी सूचना

जीवन ज्योति अस्पताल में छापेमारी, भ्रूण लिंग परीक्षण की मिली थी सूचना
Published Date:

फरीदाबाद ( जनता की आवाज ) : स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार रात सेक्टर 15 स्थित जीवन ज्योति अस्पताल में छापेमारी की। यहां पर जन्म से पूर्व गर्भ में शिशु के लिंग की जांच करने संबंधित शिकायत विभाग को मिली थी। सीएमओ को मिली शिकायत के आधार पर विभाग ने यहां पर छापेमारी की। सेंट्रल थाना पुलिस ने केस दर्ज कर एक कर्मचारी को गिरफ्तार कर लिया।

अस्पताल में लिंग जांच की शिकायत मिलने पर सिविल सर्जन डॉ. गुलशन अरोड़ा ने एक टीम का गठन किया। इस टीम में डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. संजीव भगत, डॉ. गजराज, डॉ. हरजिंद्र व डॉ. स्मृति शामिल थीं। वहीं नायब तहसीलदार वीरेंद्र सिंह ड्यूटी मैजिस्ट्रेट के रूप में टीम के साथ मौजूद थे। शिकायत मिली थी कि अस्पताल में एक कर्मचारी बिचौलिए का काम करती है और मरीजों का अल्ट्रासाउंड करा कर शिशु के लिंग के बारे में जानकारी देती है। विभाग की टीम ने एक गर्भवती महिला को नकली ग्राहक बनाकर महिला कर्मचारी के पास भेजा। बातचीत होने के बाद वो महिला को अल्ट्रासाउंड के लिए ले जाने लगी तो टीम ने छापा मार दिया। इस दौरान महिला कर्मचारी मीना को सेंट्रल थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने महिला को कोर्ट में पेश पर नीमका जेल भेज दिया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनुसार अस्पताल में अल्ट्रासाउंड मशीन को सील कर दिया गया है। साथ ही अल्ट्रासाउंड से संबंधित दस्तावेज कब्जे में ले लिए गए हैं। संबंधित महिला कर्मचारी पिछले तीन सालों से अस्पताल में काम कर रही थी। छापेमारी दौरान अस्पताल संचालक की कोई प्रत्यक्ष भूमिका सामने नहीं आई है। इसलिए इस मामले में अस्पताल संचालक की भूमिका की जांच की जा रही है।