कोठपुटली : पुलिस कांस्टेबल हत्या प्रकरण का पर्दाफाश रूपयों को लेकर की गई थी कांस्टेबल की हत्या

कोठपुटली : पुलिस कांस्टेबल हत्या प्रकरण का पर्दाफाश रूपयों को लेकर की गई थी कांस्टेबल की हत्या
Published Date:

कोटपूतली ( जयपुर ग्रामीण )। स्थानीय थाना पुलिस ने विगत 9 मार्च को निकटवर्ती ग्राम पवाना अहीर के पास मिली पुलिस कांस्टेबल ख्यालीराम यादव की लाष के हत्या प्रकरण का पर्दाफाश करते हुये ग्राम प्रागपुरा निवासी एक जने को गिरफ्तार किया है। इस सम्बंध में जयपुर ग्रामीण एसपी डॉ रामेश्वर सिंह ने बताया कि सिपाही ख्यालीराम यादव पुत्र गाडाराम निवासी ग्राम दताल, थाना नांगल चौधरी जिला महेन्द्रगढ (हरियाणा) का रहने वाला था। जो कि कोटपूतली थाने के अन्तर्गत बानसूर रोड पर निकटवर्ती ग्राम चतुर्भुज में पुलिस चौकी पर तैनात था। विगत 8 मार्च की सुबह करीब साढे दस बजे वह चौकी से पावटा बैंक में जाने की बात कहकर निकला था। जिसके देर रात्रि तक नहीं लौटने पर चौकी के अन्य पुलिस कर्मियों ने उसके घर फोन करके बेटे से पुछताछ की तो पता चला कि वह पावटा-प्रागपुरा में गिरिराज शर्मा नामक व्यक्ति के साथ देखा गया था। इस सम्बंध में उक्त व्यक्ति से जानकारी ली तो उसने बताया कि ख्यालीराम किसी निजी वाहन से कोटपूतली गया था। अगले दिन 9 मार्च की सुबह ख्यालीराम की लाश पवाना अहीर के पास मिलने पर उसके पुत्र भुवनेष्वर ने स्थानीय थाने में हत्या का मामला दर्ज करवाया। जिस पर एसपी डॉ रामेश्वर सिंह के निर्देष पर थानाधिकारी रविन्द्र प्रताप सिह के नेतृत्व में पुलिस टीम का गठन कर जांच शुरू की गई। जांच के दौरान सामने आया कि मृतक सिपाही ख्यालीराम को अन्तिम बार गिरिराज शर्मा के साथ देखा गया था। एवं उसके द्वारा ही फोन कर पावटा बुलाया गया था। पुलिस ने संदिग्ध गिरिराज शर्मा से पुछताछ की तो उसने कांस्टेबल की हत्या कर शव को पवाना अहीर के पास डाले जाना स्वीकार किया। वहीं उसकी निषानदेही पर कंवरपुरा व गोरधनपुरा पुलिया के बीच नाले से मृतक कांस्टेबल की वर्दी को भी बरामद कर लिया। पुछताछ में उसने बताया कि मृतक सिपाही ख्यालीराम उसके आठ लाख रूपये मांगता था। जो बार-बार तकादा कर रहा था। इस पर उसके मन में रूपये हडप जाने का लालच आ जाने पर फोन से पावटा बुलाया। इसके बाद प्लान के तहत बैंक व पोस्ट ऑफिस में खाते खुलवाने एवं सम्बंधित रिकॉर्ड जमा कराने के बाद उसने ख्यालीराम को लस्सी में नींद की गोलियां मिलाकर पिला दी व गाडी की पिछली सीट पर बिठाकर कोटपूतली ले आया एवं कार को इधर-उधर घुमाता रहा। गिरिराज ने अपनी लोकेशन छुपाने के लिए अपने फोन को भी पावटा में ही छोड दिया। कुछ समय बाद नशे में ख्यालीराम के बेहोश होने पर रात्रि के समय में उसका गला दबाकर हत्या कर दी एवं शव को पवाना अहीर में डालकर वर्दी भी उतार ली। मृतक को नेकर व इनर पहने ही रस्सी से बांधकर डाल दिया एवं वर्दी को नाले में डालकर अपने घर पहुंच गया। पुलिस ने सोमवार को आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। घटनाक्रम में आगामी अनुसंधान किया जा रहा हैं।