तेज रफ्तार तूफान से ताजमहल को हुआ भारी नुकसान

तेज रफ्तार तूफान से ताजमहल को हुआ भारी नुकसान
Published Date:

आगरा : बुधवार को आई तेज रफ्तार से आए तूफान से ताजमहल में भारी नुकसान हुआ है। यहां की दो मीनारें गिर गईं। एक रॉयल गेट और दूसरी दक्षिणी के गेट की मीनार गिरी है। यहां लगे कलश भी गिर कर टूट गए। इसके अलावा मुख्य गुंबद पर लगे कुछ पत्थर भी टूटकर नीचे गिर गए। वहीं फोरकोर्ट में खड़ा नीम का पेड़ भी धराशायी हो गया।

◆ तूफ़ान से ताज महल को नुकसान की 10 बड़ी बातें ◆

1. तेज रफ्तार से आए तूफान से ताजमहल की दो मीनारें गिर गईं।

2. ताजमहल के रॉयल गेट और दूसरी दक्षिणी के गेट की मीनार गिरी है। यहां लगे कलश भी गिर कर टूट गए।

3. मुख्य गुंबद पर लगे कुछ पत्थर भी टूटकर नीचे गिर गए। वहीं फोरकोर्ट में खड़ा नीम का पेड़ भी धराशायी हो गया।

4. ताजमहल के इन गेटों का निर्माण 1631 से 1638 के बीच हुआ था।

5. अधीक्षण पुरातत्वविद डॉ. भुवन विक्रम ने बताया कि मीनारों और पेड़ के गिरने के कारण काफी नुकसान हुआ है। नुकसान का आंकलन किया जा रहा है। आशंका जताई कि आंधी से कुछ और भी नुकसान हुआ होगा। इसका भी पता लगाया जा रहा है। कर्मचारियों को मौके पर भेज दिया गया है।
6. ताजनगरी में मंगलवार की शाम 7.30 बजे एकाएक बिजली गड़गड़ाने के बाद बादल घिरने लगे। तूफान का वेग उठा और चंद पलों में रौद्र रूप धारण कर लिया। लोग संभल पाते, तब तक ओलावृष्टि और भारी बारिश होने लगी। चंद मिनट में ही बवंडर पूरे ब्रज में फैल गया। तबाही का मंजर इतना विकराल हुआ कि हजारों पेड़, सैकड़ों होर्डिंग, बैनर, टीनेशड तहस-नहस हो गए। पानी की टंकियां छतों से उड़ गईं। तमाम घरों की दीवारें गिर गईं।

8. भयंकर तूफान से शहर से देहात तक सैकड़ों पेड़, होर्डिंग, टीनशेड, खंभे उखड़ गए। कई जगह मकान और दीवार ढह गईं। आगरा के अछनेरा और डौकी में तीन-तीन जबकि ताजगंज में दो लोगों की मौत हो गई। मथुरा और फिरोजाबाद में चार-चार लोगों की मौत हो गई।

9.मथुरा और फिरोजाबाद में कई जगह जलभराव हो गया। फिरोजाबाद के मक्खनपुर में कारखानों की दो चिमनी टूट गई हैं, फिरोजाबाद में दो मकान गिर गए।

10. तूफानी तबाही के चलते ब्रज में शाम 7.30 बजे से ही ब्लैक आउट हो गया। बिजली विभाग को सबसे ज्यादा नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है। पोल टूटकर सड़कों पर गिर पड़े। कई स्थानों पर बड़े फॉल्ट हो गए, सिकंदरा और बोदला फीडर पर पेड़ टूटकर गिर पड़े।