एसपीजी ही क्यों करती है प्रधानमंत्री की सुरक्षा, क्यों है सबसे अलग यह दस्ता

एसपीजी ही क्यों करती है प्रधानमंत्री की सुरक्षा, क्यों है सबसे अलग यह दस्ता
Published Date:
Friday, June 29, 2018 - 09:10

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मारने की साजिश का खुलासा होने के बाद उनकी सुरक्षा में कई बदलाव किए गए हैं। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने पीएम की सुरक्षा का रिव्यू लिया। जिसके बाद स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) को कुछ निर्देश जारी किए गए हैं। जिसमें अब बिना अनुमति के मंत्रियों या अधिकारियों को भी पीएम के पास नहीं जाने दिया जाएगा। एसपीजी चाहे तो मोदी के मंत्रियों की भी तलाशी ले सकती है। इसके अलावा गृहमंत्रालय ने सभी राज्यों को पीएम मोदी को होने वाले अज्ञात खतरे को लेकर खत लिखा है। इसके तहत पीएम की सुरक्षा को और सख्त बनाया गया है।
गृह मंत्रालय ने कहा है कि पीएम पर अब तक का सबसे बड़ा खतरा मंडरा रहा है। माना जा रहा है कि एसपीजी ने पीएम को कम से कम रोड शो करने की सलाह दी है क्योंकि सुरक्षा के लिहाज से जनसभाएं ज्यादा सुरक्षित होती हैं। दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि पीएम मोदी 2019 चुनाव के स्टार प्रचारक होंगे। लिहाजा, वह हत्यारों के निशाने पर नंबर वन की श्रेणी में हैं।

क्या होती है एसपीजी

एसपीजी संघ की एक सशस्त्र सेना होती है जो देश के प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्रियों सहित उनके उस समय के निकटतम परिवार के सदस्यों को सुरक्षा प्रदान करते हैं। सेना की इस यूनिट की स्थापना 1988 में संसद के अधिनियम 4 की धारा 1(5) के तहत की गई थी। पूर्व प्रधानमंत्री, उनका परिवार और वर्तमान प्रधानमंत्री के परिवार के सदस्य चाहें तो अपनी इच्छा से एसपीजी की सुरक्षा लेने से मना कर सकते हैं।

इसलिए बनाई गई एसपीजी

1981 से पहले तक भारत के प्रधानमंत्री और उनके आवास के सुरक्षा की जिम्मेदारी दिल्ली पुलिस उपायुक्त के नेतृत्व वाली स्पेशल सिक्योरिटी के हाथों में होती थी। अक्टूबर 1981 में इंटेलिजेंस ब्यूरो
के कहने पर एक स्पेशल टास्क फोर्स का निर्माण किया गया। जो दिल्ली के अंदर और बाहर पीएम को सुरक्षा मुहैया करवाते थे। अक्टूबर 1984 में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके सुरक्षा गार्ड्स ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद पीएम की सुरक्षा को लेकर रिव्यू किया गया।

सचिवों की समिति ने पीएम की सुरक्षा का रिव्यू किया। जिसके बाद निर्णय लिया गया कि पीएम की सुरक्षा को एक स्पेशल ग्रुप को दिया जाए जिसमें एक निर्दिष्ट अधिकारी का संगठित और प्रत्यक्ष नियंत्रण हो और एसटीएफ दिल्ली और दिल्ली से बाहर पीएम को तत्काल सुरक्षा देगी। इसी वजह से एसपीजी का गठन हुआ। यह एक स्वतंत्र निर्देशक के अंतर्गत स्थापित किया गया जो दिल्ली, देश और दुनिया के हर कोने में जहां भी प्रधानमंत्री जाएं वहां उनको सुरक्षा प्रदान करेंगे।

क्या होता है खास

पीएम की सुरक्षा में तैनात होने वाले एसपीजी कमांडो को विशेष तरह की ट्रेनिंग दी जाती है। इन्हें पीएम की सुरक्षा में तैनात करने से पहले उनके बारे में सारी जानकारी निकाली जाती है। जैसे कि वह कहां जाते हैं, किससे मिलते हैं आदि। उनके परिवार के सभी सदस्यों को ब्यौरा भी सरकार के पास मौजूद होता है। इन कमांडो के पास एफएनएफ-2000 असॉल्ट राइफल होती है। यह पूरी तरह से ऑटोमैटिक गन है। कमांडोज के पास ग्लोक 17 नाम की एक पिस्टल भी होती है। कमांडो अपनी सेफ्टी के लिए एक लाइट वेट बुलेटप्रूफ जैकेट पहनते हैं और साथी कमांडो से बात करने के लिए कान में लगे ईयरप्लग या फिर वॉकी टॉकी की मदद लेते हैं।

पीएम की सुरक्षा में विभिन्न घेरों के तहत एक हजार से ज्यादा एसपीजी कमांडो तैनात रहते हैं। इन कमांडो को भारतीय सेना और पुलिस बल से चुना जाता है। जिसके बाद इन्हें विशेष ट्रेनिंग दी जाती है। पीएम की सुरक्षा में तैनात एसपीजी की खासियत यह होता है कि ड्राइवर से लेकर निजी बॉडीगर्ड तक एसपीजी के ही होते हैं। इन्हें चेहरे पर किसी भी तरह के भाव दिखाने की मनाही होती है। इनके पास एफएन हर्सटल फाइव-सेवन बंदूक और ग्लॉक 12 के विशेष तरह के दस्ताने होते हैं जो इन्हें चोट लगने से बचाते हैं।

पीएम मोदी की सुरक्षा

सार्वजनिक कार्यक्रम में एसपीजी कमांडो पीएम के चारों तरफ, उनके साथ-साथ चलते हैं। यही कमांडो हमेशा गाड़ी का दरवाजा खोलकर उन्हें अंदर बैठाने के साथ ही उन्हें उतारते हैं। इनके साथ दो जैमर लगी गाड़ियां चलती हैं। जिसमें दो एंटिना लगे रहते हैं। यह सड़क के दोनों तरफ 100 मीटर की दूरी पर रखे विस्फोटक को निष्क्रिय करने में सक्षम होते है। पीएम के दौरे से पहले एसपीजी उस क्षेत्र का दौरा करके आते हैं ताकि उनकी सुरक्षा में किसी तरह की चूक ना हो सके।

एसपीजी कमांडो के जूते इस तरह से बनाए जाते हैं ताकि वह किसी भी तरह की जमीन पर ना फिसलें। एसपीजी कमांडो हमेशा काला चश्मा पहने रहते हैं जिससे वह सभी पर नजर रख सकें लेकिन किसी को यह ना पता चले कि वह किसे देख रहे हैं। पीएम के काफिले में एक एंबुलेंस भी चलती है। जो किसी भी आपात स्थिति में उन्हें मेडिकल सुविधा मुहैया करवाने के लिए होती है। मोदी अति सुरक्षा वाली बुलेटप्रुफ बीएमडब्ल्यू 7 कार से सफर करते हैं। उनके काफिले में साथ-साथ ऐसी ही दो डमी कारें चलती हैं जिससे कि हमलावर को भ्रमित किया जा सके।

मोदी को कमांडो और पुलिस कवर के साथ कुछ अत्याधुनिक तकनीकी सुविधाओं से लैस वाहन और एयरक्राफ्ट रहते हैं। यह सभी वाहन उच्च क्षमता के सैन्य आयुधों (आर्म्स एम्युनिशन) से लैस होते हैं। यदि पीएम के काफिले पर जमीनी या हवाई हमला होता है तो इनके जरिए उससे आसानी से निपटा जा सकता है। यह किसी भी तरह के रासायनिक या जैविक हमले का जवाब देने में सक्षम होते हैं।