Breaking Newsताजा ख़बरेंदेश

शिवराज करेंगे विश्वास प्रस्ताव की मांग,मध्यप्रदेश में फ्लोर टेस्ट को लेकर सस्पेंस बरकरार

 

भोपाल । मप्र विधानसभा के बजट सत्र के पहले दिन कमलनाथ सरकार का फ्लोर टेस्ट (शक्ति परीक्षण) होगा या नहीं, इसे लेकर सस्पेंस बना हुआ है। रविवार देर शाम जब विधानसभा की कार्यसूची जारी हुई तब जाकर यह स्पष्ट हो पाया कि कल के एजेंडे में फ्लोर टेस्ट का कोई कार्यक्रम नहीं है। सोमवार को सुबह 11 बजे सत्र की शुरआत राज्यपाल लालजी टंडन के अभिभाषषण से होगी।

22 विधायकों के इस्तीफे के बाद पैदा हुए सियासी संकट का संज्ञान लेते हुए राज्यपाल ने शनिवार आधी रात को मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा था कि उन्हें पूरी तरह भरोसा हो गया है कि सरकार अल्पमत में है, उसे सदन में विश्वास मत हासिल करना होगा। इस निर्देश के बाद रविवार को भोपाल से दिल्ली तक चले सियासी दांव–पेच से फ्लोर टेस्ट उलझता दिख रहा है। कोरोना वायरस का खतरा जताकर फ्लोर टेस्ट टाले जाने की आशंका ब़़ढ गई है।

सीएम ने फिर कहा, बंधक विधायकों के स्वतंत्र होने के बाद फ्लोर टेस्ट 

मुख्यमंत्री कमलनाथ लगातार यह कहते आ रहे हैं कि वे फ्लोर टेस्ट को तैयार हैं, लेकिन जब तक बेंगलुर में बंधक उनके विधायकों को स्वतंत्र नहीं किया जाता, तब तक फ्लोर टेस्ट नहीं हो सकता। इस बात को सोमवार को भी उन्होंने दोहराया है।

फ्लोर टेस्ट का फैसला सदन करेगा : प्रजापति

राज्यपाल द्वारा दिए गए फ्लोर टेस्ट के निर्देशों पर विधानसभा अध्यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति चुप्पी साधे हैं। प्रजापति ने मीडिया से कहा कि फ्लोर टेस्ट का फैसला सदन ही करेगा। सदन क्या फैसला लेगा, यह काल्पनिक सवाल है। जब उनसे पूछा गया कि राज्यपाल के निर्देश पर फ्लोर टेस्ट होगा या नहीं, जवाब में स्पीकर ने इसे भी काल्पनिक सवाल बताकर टाल दिया।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close